voice of broken heart

Voice Of Broken Heart
Image credit

voice of broken heart कहो या फिर कहो टूटे हुए दिल की आवाज इससे फर्क नहींं पड़ता क्योंकि दर्द का एहसास दोनों जगह पर एक जैसा ही है।
जहाँ प्यार और लगाव एक जैसा होता है वहाँ अक्सर दूरियां होने के बाद जैसे हमारे लिए कुछ बाकी नहीं रहा ।
हम अक्सर खुद से और खुदा से सवाल पूछते रहते हैं। और कभीकभी हम उस खुदा से भी दूरियां बना लेते हैं। और जैसे जैसे समय बीतता हम अपने आप से भी दूर हो जाते हैं। और हमनें क्या खोया और वो हमारे लिए कितना अहम था, ये सोचते हुए अपना समय बिता देते हैं।

Poetry part-1

जब तोड़ना ही था, तो
दिल क्यूँ बनाया रब ने।
कोई न मिला मुझे जिसका,
दिल टूटा न हो इस जग में ।।

समझे न कोई मेरी मजबूरियां,,,
मिलने लगीं हैं, मुझे क्यूं ये दूरियां।
हमनें तो ये चाहा नहीं था कभी,,,
फिर किस लिए मिली हैं, ये मजबूरियां ।।

Voice Of Broken Heart
image credit

ऐसे हालातों में कुछ अपने भी साथ छोड़ जाते हैं। और जब भी उनसे मिलना होता है, तो उनकी महफ़िल में एक मजाक का सबब बन कर रह जाते हैं। और उस समय वो आखिरी उम्मीद की किरण भी धराशाई होती नजर आती है, जो जिंदगी को दोबारा नये सिरे से शुरू करने वाली होती है।

Poetry part-2

कैसे बुनूं यहां में सुकून के कुछ सपने,,,
जब अकेला छोड़ रहे हैं, मेरे अपने ।
कुछ तो यादों में भी दूरियां बना रहे हैं,,,
तेरे ही बन्दे आजकल मेरा मजाक उड़ा रहे हैं।।

रुलाना ही था अगर मुझे ए खुदा,,,
फिर क्यों मुझे हसाया था सब ने।
छीन लिया वो हर शख्स तूने यहां,,,,,
जो भी मेरा हमसाया था जग में ।।

Here you find more stuff on this page which you love to Read

3 thoughts on “voice of broken heart

  • February 17, 2021 at 7:29 pm
    Permalink

    kuch kahaniya es kadar b likhi he us khuda ne ,
    pyar aadha sahi par pura mila ,
    bewafaiyo k jamane me b mujhko mehbub heera mila .

    bus admin don’t be arjit singh of this potery world 😑

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.