Poetry Collection of “Gulzar” (गुलजार शायरी)

Poetry Collection of “Gulzar”

Poetry Collection of "Gulzar"
Image From Navjivan

गुलज़, भारत के बेहतरीन फिल्मकारों और गीतकारों में से एक हैं, जो हमेशा दिल से कवि रहे हैं, जो उर्दू पंजाबी और कई अन्य भारतीय भाषाओं में लिखते हैं। उन्हें अक्सर ‘गुलज़ार साब’ के रूप में जाना जाता है। गुलज़ार भारत में सबसे प्रसिद्ध कवियों में से एक हैं। गुलज़ार का असली नाम हैं सम्पूरन सिंह कालरा। उनका जन्म 18 अगस्त 1934 को पाकिस्तान में झेलम जिले में हुआ था। 1974 से अलग रहने के बावजूद, गुलज़ार कहते हैं कि उन्होंने और उनके अलग-थलग पड़े पति राखी गुलज़ार ने एक साथ जीवन बिताया है।

Poetry Collection of “Gulzar”

1- Dil ke Rishte Hamesha kismat Se Hi bante Hain,,,,,
Varna mulaqaat to Roz hazaron Se Hoti Hai…..

दिल के रिश्ते‍‍‍ हमेशा किस्मत से ही बनते हैं,,,,
वरना मुलाकात तो रोज हजारों से होती है।

गुलज़ार शायरी,,,,

2- Sach ko Taɱlmeez hi nahin baat karne ki,,,
Jhoot ko Dekho kitna meetha bolata Hai….

सच को तमीज ही नहीं बात करने की,,,,
झूठ को ‍देखो कितना मीठा बोलता है।

Gulzar quotes on love

3- kuch shikayten Bani Rahe to Behtar hai,,,,,
chashni mein doobe Rishte wafadar Nahin Hote….

कुछ शिकायतें बनी रहे, तो बेहतर है,,,
चाशनी में डूबे रिश्ते‍‍‍ वफादार नही होते।

best of Gulzar

4- kaise Gujar Rahi Hai, Sab Puchte Hain,,,,
kaise gujarta hu koi Nahin puchta….

कैसे गुजर रही है,सब पूछते हैं,,,,
कैसे गुजारता हूं कोई नहीं पूछता।

Ghar ke Aaine…Gulzar shayri

5- Teri Tarah Bewafa nikale mere Ghar ke Aaine bhi,,,,,
khud ko Dekhu To Teri Tasveer Nazar Aati Hai….

तेरी तरह बेवफा निकले मेरे घर के आईने भी,,,,
खुद को देखूं तो, तेरी तस्वीर नजर आती है।

6- Wo Jo Surat par Sabki Haste Hain,,,,
unko tohfe ɱain Ek Aaina dijiye…..

वह जो सूरत पर सबकी हंसते हैं,,,,
उनको तोहफे में एक आईना दीजिए।

Tum Na do…

7- kuch Aise ho gaye hain is Daur ke Rishte,,,,,
Awaaz Agar Tum Na do to bolate wo Bhi Nahin….

कुछ ऐसे हो गए हैं इस दौर के रिश्त
आवाज अगर तुम ना दो तो बोलते वह भी नही।

kisi Apne ki…

8- Chup hun to Pathar Na samajhna ɱujhe,,,,
Dil Par Asar Hua Hai kisi Apne ki baat ka….

चुप हो तो पत्थर ना समझना मुझे,,,
दिल पर असर हुआ है, किसी अपने की बात का।

9- Tujh Se koi Shikva Shikayat Nahin Aye Zindagi,,,,
Tune Jo Bhi Diya Hai Vahi bahut hai…..

तुझसे कोई शिकवा शिकायत नहीं,
ए जिंदगी,,,,,
तूने जो भी दिया है वही बहुत है।

Jise Dil…

10- Woh cheez jise Dil kahate Hain,,,,,
Ham bhul gaye hain Rakh kar kahin….

वह चीज जिसे दिल कहते हैं
हम भूल गए हैं रखकर कहीं।

Purvai bhi…

11- Ek purana mausam lauta Yad Bhari Purvi bhi,,,,,
Aisa to kam hi hota hai, ki wo bhi ho Aur Tanhai bhi….

एक पुराना मौसम लौटा और याद भरी पुरवाई भी,,,,,
ऐसा तो कम ही होता है कि वो भी हो, और तन्हाई भी ।

Best Shayari Gulzar

12- Ghulam the To Haɱ Sab Hindustani the,,,,,
Azadi Ne Hume Hindu musalɱan banaa Diya….

गुलाम थे तो हम सब हिंदुस्तानी थे,,,,
आजादी ने हमें ️हिंदू मुसलमान बना दिया ।

Happy birthday to you

13- Umar badhati Rahegi Sal ghatte rahenge,,,,
aur hoti Rahegi guftgu happy birthday to you….

उम्र बढ़ती रहेगी साल घटते रहेंगे,,,,
और होती रहेंगे गुफ्तगू हैप्पी बर्थडे टू यू।

Famous Shayari by Gulzar on life

14- Bahut chhale Hain Uske Pairon mein,,,,,
kambakht usoolon per Chala hoga….

बहुत छाले है उसके पैरों में,,,,
कमबख्त उसूलों पर चला होगा।

15- Lauta Jo Saza kat ke bina Jurm ki,,,,
Ghar Aakar usne Sare Parinde riha kiye….

लौटा जो सजा काट के बिना जुर्म की,,,
घर आकर उसने सारे परिंदे रिहा किए।

galat fahami,,,

16- Fasla Bada Liya Tumne,,,
main Deewar Pakki kar li,,,
Zara Si galat fahmi Ne Dekho
kitni tarkki kar li….

फासला बढ़ा लिया तुमने,,,
मैंने दीवार पक्की कर ली।
जरा सी गलतफहमी ने ‍देखो,,,
कितनी तरक्की कर ली।।

17- Tod kar Jod Lo Chahe Har cheez duniya ki,,,
Sab kuch kabil-e-marammat Hai Aitbaar ke Siwa….

तोड़कर जोड़ लो चाहे, हर चीज दुनिया की,,,
सब कुछ काबिल-ए-मरम्मत है एतबार के सिवा।

Gulzar Shayari

18- Jinhe waqai baat karna aata hai,,,
wo log Aksar khaɱosh Rehte Hain….

जिन्हें वाकई बात करना आता है,,,
वो लोग‍‍ अक्सर खामोश रहते हैं।

Zindagi Gulzar hai,,,,

19- Lagta hai aaj Zindagi kuch khafa Hai,,,,
Chaliye chhodiye kaun sa Pehli Dafa Hai.

लगता है, आज जिंदगी कुछ खफा है,,
चलिए छोड़िए कौन सा पहली दफा है।

Zindagi Gulzar hai,,,,

20- Itna kyu sikhaye Ja Rahi Ho Zindagi,,,
Hume kaun si sadiyan gujarni hai yahan….

इतना क्यों सिखाए जा रही हो जिंदगी,,,
हमें कौन सी सदियां गुजारनी है यहां।

Khaɱoshi..Gulzar Shayari

21- Tum Shor karte ho,, Surkhiyon mein aane ke liye,,
Haɱari to khaɱoshi Akhbar Bani Hui Hai…..

तुम शोर करते हो,,सुर्खियों में आने के लिए,,,,
हमारी तो खामोशियां अखबार बनी हुई हैं।

Intazar poetry,,,,,,

22- Jab Bhi yah Dil Udaas Udaas Hota Hai,,,,
Jaane kaun Aas Paas Hota Hai…
koi Vada nahin kiya Lekin,,,
kyun Tera Intazar rahata hai….

जब भी यह दिल उदास उदास होता है,,
जाने कौन आस पास होता है।
कोई वादा नहीं किया लेकिन,,,
क्यों तेरा इंतजार रहता है।।

Ummid,,,,

23- Takleef khud Hi kam ho gayi,,,,,
Jab Apno Se ummid kam Ho Gayi….

तकलीफ खुद ही कम हो गई,,,
जब अपनों से उम्मीद कम हो गई।

Gulzar- sapna koi sulagta hai

24- Dil mein kuch Jalta Hai,,,,,
Shayad Dhua Dhua Sa Lagta Hai….
Aankh mein kuch chubhta Hai,,,,
Shayad Sapna koi sulagta hai….

दिल में कुछ जलता है,,,
शायद धुआं धुआं सा लगता है।
आंख‍ में कुछ चुभता है,,,
शायद सपना कोई सुलगता है।।

Aadat iski…Poetry Collection of “Gulzar”

25- Waqt rahata Nahin kahin tik kar,,,,
Aadat iski bhi aadami Si Hai…

वक्त रहता नहीं कहीं टिक कर,,
आदत इसकी भी आदमी सी है।

Gulzar ki Shayari…

26- Panaah mil jaaye ruh ko
Jiska Hath Chhu kar,,
Usi hatheli par ghar Bana Lo….

पनाह मिल जाए रूह को ,,,जिसका हाथ छू कर,,,,
उसी हथेली पर घर बना लो।

..Gulzar muhabbat

27- Agar kisi Se muhabbat be-hisaab Ho Jaaye,,,
to saɱajh Jana wo kisɱat ɱein Nahin Hai….

अगर किसी से मुहब्बत बे-हिसाब हो जाए,,,
तो समझ जाना वह किस्मत में नहीं।

Gulzar best Shayari,,,

28- Wo kabhi Dara hi nahin mujhe khone Se,,,,
Wo kya Afsos karega ɱere na hone se….

वह कभी डरा ही नहीं मुझे खोने से,,,
वह क्या अफसोस करेगा मेरे ना होने से।

Wo katra hi bahut hai…Poetry Collection of “Gulzar”

29- Thukra do,, Agar de koi jillat se Saɱundar,,,
izzat se jo mil jaaye wo katra hi bahut hai….

ठुकरा दो अगर दे कोई जिल्लत से समंदर,,,,
इज्जत से जो मिल जाए वो कतरा ही बहुत है।

Gulzar Shayari,,,Poetry Collection of “Gulzar”

30- Wo mila Aise Jaise kabhi Jayega hi nahin,,,,
Gaya Aise Jaise kabhi mila hi Nahin….

वह मिला ऐसे जैसे कभी जाएगा ही नहीं,,,,
गया ऐसे जैसे कभी मिला ही नहीं।

Here you find more stuff on this page which you love to Read

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.