My Old Hindi Poetry Your Quote Collection (part-3)

My Old shayari Hindi Poetry

मेरी जिंदगी तो गुजर रही तेरे हिज्र के सहारे !
अब मौत को भी तो कोई बहाना चाहिए !!

ajeeb hi hain,,,,,,
Khawahishon ke kafile bhi,
Aksar wahin se guzarte hai jahan raste nahi hote.

You know!!!
मैं आज भी कायम हूँ अपने वादे पे,,,,
उस दिन
तुम ही डगमगा गए थे अपने इरादे से,,,

खून जिगर का जलाया जिंदगी में उजालों के लिए,,,
वक्त आया तो तरसे सुकून के दो निवालों के लिए,,

खुशियां भी अब खुश नहीं मुझसे,
शायद खुशीयों नें खुशी से खुदखुशी कर ली

खुद ही निकल पड़ता हूँ उनकी तलाश में आजकल
थोड़ा मन मुटाव चल रहा है,,
इसीलिए मेरे घर खुशियों का आना जाना बन्द है,,,

सलीका हो अगर तन्हाइयों से बात करने का,,
तो बीते लम्हे भी सूने दिल को आबाद रखते हैं,,

उसको तराश तराश कर
हीरा बना दिया मैने
अब ये आलम है की मुझसे
उसकी कीमत अदा नहीं होती

हमनें भी लिया है क्या गजब कश्ती का सहारा,,
जिसका न कोई दरिया है न कोई किनारा,,,

ये इश्क भी ओस की बूंदों जैसा है,,,
अगर दिल के दर्पण पर लग जाए,,,
खुद का अक्स भी धुंधला नजर आता है,,,

चमचमाती इस दुनियां में
किस पर एतबार करें,,,, ए गालिब
अंधेरे में तो खुद का साया भी साथ छोड़ देता है,,,,

वो,,,,,
दो लफ्ज जो लिखे कोरे पन्ने पर,,,
मेरी तन्हाई का सबब बन गए,,,,

क्या कहूँ तुम्हारी
ए-दोस्त
कुछ तो आंखों में शरफातें हैं,,,,
तो कुछ चेहरे पर नादानियाँ,,,,
कुछ बातों में मस्ती है,,,,
तो कुछ अदाओं में शैतानियाँ,,,,

रातें ही बैचैन हैं मेरी ,,,,,
तो दिन को करार कहा से लाऊं

पूछ रहे हैं वो चाय पर,,,/चीनी कितनी लोगे,,,,,
मुस्कुरा कर मैंने कहा,,,,/ दो दाने जिंदगी में

वो फिर गलतफहमी के शिकार हो रहे हैं,,,,
फूलों की सेज समझ
आंखे मूंद कांटो पर सो रहे हैं

My your quote hindi poetry

छतें तो कहीं लुप्त हो गयीं हैं,,,,,
जनाब,,,,
रिश्ते तो अब छतरियों में सिमट कर रह गए हैं,,,,,

आंखों से!!!!
रोज बिखेरता हूँ तेरे खजाने के मोती,,,
मगर तेरी यादों का सन्दूक कभी खाली नहीं होता,,,,

मेरी एक गुजारिश है,,,, पूरी करोगे!!!!!
आकर मेरी कब्र पर कभी मुस्कुरा लेना,,,
मुझे मालूम है,, मुश्किल है,,,
मगर मेरे बिना दिल लगा लेना,,

पता है !!!///
न जाने किस मोड़ पर अपने लम्हात मांग ले हमसे
इसलिये
तेरी याद का हर लम्हा सम्भाल रक्खा है,,,,

तुम्हें मालूम है !!!!!
लड़े तो हम बड़े ही खूबियों के साथ थे,,,,
लेकिन
कुछ खामियों नें शिकस्त का स्वाद चखा दिया,,

कुछ पाबंदी भी लाजमी है दिल्लगी के लिए !
किसी से इश्क अगर हो तो बेपनाह न हो !!

मेरी जिंदगी भी private job जैसी है यारों,,
पल पल नए घाव देती है चैन से जीने नही देती है,,

हर नज्म को सुनाया नहीं जाता
हर ख्वाब किसी को बताया नहीं जाता
कोई नासूर न बना दे तुम्हारे घावों को
हर घाव का राज बताया नहीं जाता

फितरत उसकी रोज सुबह गुलशन में गुलों से खेलती होगी !
क्या पता किस की आखरी हिचकी उसकी दिल्लगी होगी !!

जब नींद ने ही नाता तोड़ लिया हमसे,,,,
तो ख्वाबों की इबादत हम कैसे करें,,,,

ख्वाब,,,,,,,,,,
मैं देख तो सकता हूँ,,,
हर ख्वाब तुमको पाने का,,,,,
बाकी इस दुनियां पर है,,,
पूरा होने देगी या नहीं
हर ख्वाब इस दीवाने का,,,,,

आपको सलाम,आपकी
,,,,जुल्मत को सलाम,,, !
जो तुम से ना हो सकी,
इश्क-ए-इबादत को सलाम,,,!

मुहब्बत से इनायत से वफाओं से चोट लगती है !
बिखरता फूल हूँ मुझको हवाओं से चोट लगती है !!

अपनी शिकस्त भी कबूल कर ली हमनें,,,,
तुम्हारी दी हुई कोई चीज हम कैसे ठुकरा सकते हैं,,,,

My Your Quote hindi poetry Collection

जिंदगी से आजाद हो,,,मौत का गुलाम हो जाऊं,,,,,
बस यही दिल-ए-तमन्ना है,,
तुझे याद करते-करते आखिरी नींद सो जाऊँ,,,

दिल भर गया है मेरा तुझसे
ए जिंदगी,!!!!
तू मेरा पीछा छोड़ दे,,,,
आज मुझसे अपना हर नाता तोड़ ले,,,,

गम-ए-मुहब्बत में सारे आँसू पी गया,,,,,,
यारों’,’,’,’,’,:
उनके वादों में और यादों में
रहकर शराब न पी सका,,,,,,

सुनो””””
टूट जाऊंगा तुम्हारी खातिर सितारों की तरह,,,,
बशर्ते तुम”””
दुआ सिर्फ खुद की खुशियों की करो,,,,,,,

लोग हमें लम्बी उम्र की दुआ देते हैं
और
हम मौत से दोस्ती किये बैठे हैं

हर पल बदलता मौसम देखा है,,,
उनकी आंखों को आज भी नम देखा है,,,

आजकल की मुहब्बत को सेटिंग कहते है,,,,
बिना देखे एक-दूसरे के दिमाग चाटने की
क्रिया को चैटिंग कहते हैं,,,,

गर इश्क में,,, न गुम हमारे रस्ते होते,,,,,
तो हम भी बेवाक हर पल हस्ते होते,,,,,,

सौदा न हो सका यारों,,,,,,
बेचना मुझे भी अपना ईमान था,,,,
वो खरीददार भी बेईमान था,,

कम से कम इतना तो जाहिर
हो मुहब्बत का असर,,,, !
जुबां से निकली हुई
हर बात गजल बन जाए,,,, !!

जब’,’,’,’,’,’,’,’,’,
मुहब्बत नें ही हमें
न-मंजूर कर दिया ,,,
तो और किसी की
मंजूरी का क्या फायदा ,,,

केवल दो तरह के आदमी औरत को समझ नहीं पाते!!
“कुँवारे” और “विवाहित”
और जो समझ गये वो बैरागी बन गए!!
“अलख निरंजन”
😂😜😂

सुनो””””
याद आएंगे हम भी एक दिन,,,,
जब!!!!!!!!
हम,,,,,हम न रहेंगे,,

वो गया था तेरे आने के साथ,,,,,,
अब तू भी चला जा उसके जाने के बाद,,,,,

बेचे जो अरमान अपनी मुहब्बत के
तो हम बेईमान हो गए,,,,,
रुके थे जो,,,, नयन हमारे,,,,
हर लम्हे को याद करके,,,
वो आज वो भी रो गए,,,

दो मीठे बोल से यूँ ही बिक जाता हूँ,,,
जब भी उनका सजदा होता ,,,
बे-परवाह उनकी खातिर झुक जाता हूँ,,,,

love Your Quote hindi poetry Collection

है कोई खरीददार,,!!!!!!
बेचने जा रहा हूँ,,,,,
कुछ जज्बात पुराने,,,,,,
शायद नए साल पर
कुछ मुनाफा ही हो जाये,,,,,

मेरे अंदर इंसान नहीं,,,,
बाहर कहाँ फिर तुझे खोजन जाऊं,,,,,
तुझको सुन,,, न अच्छा बनया,,,,
न बैर में तेरी बुरा कहाऊँ,,,,
मूक बना हूँ,,, अपनी खातिर,,,,
कैसे अपनी बीती सुनाऊँ,,,,,
गर तू मिले मुझसे कहीं,,,,
तो तुझको एक बात बताऊं,,,,
इंसान ने तेरी कायनात को उजाड़ डाला है,,,,,
एक नें तुझको चार दिवारी में कैद किया,,,,
तो एक ने जमीन में गाड़ डाला है,,,,
अब तू ही बता,,,,तुझको में कैसे पाऊँ,,,
कत दिसा में तुझे खोजन जाऊँ,,,,,

ये”””
शब्दों का,,, बस,,,, एक अफसाना है,,,,
अभी जिंदा हूँ मैं,,,,
सबको यही बताना है,,,,,,

फिर उसने मुस्कुरा के देखा मेरी तरफ !
फिर एक जरा सी बात पर जीना पड़ा मुझे !!

लग गई बोली मेरे एहसासों की भी,,,,
इस
मुहब्बत के बाजार में,,,,,,, मैं भी निलाम हो गया,,,,,,

तमाम हालात रक्खे थे मैनें,,,,यूँ मद्दे नजर,,,,,
तुम्हारे%%%
एक सवालात में बिखेर दिए इधर उधर,,,,

तेरी यादों को अब सिर्फ,,,,हिचकियों का ही सहारा है,,
तू तो है नहीं,,,,,,इनके सिवा अब कौन हमारा है,,,,

दर्द!!!!
सुनने, बोलने और लिखने में बहुत छोटा लगता है,,,
मगर जिसे होता है वो ही जानता है,, कितना कठिन है उसे सहन करना,,,,

Here you find more Quote stuff on this page which you love to Read

Click to visit my your Quote profile for download hindi poetry with beautiful images

Something Wrong Please Contact to Davsy Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.