Mirza Galib shayari- Memorable poetry Collection

Mirza Galib shayari-

Mirza Galib

मिर्ज़ा ग़ालिब” उर्दू एवं फ़ारसी भाषा के महान शायर थे।
इनको उर्दू भाषा का महान शायर माना जाता है और फ़ारसी कविता के प्रवाह को हिंदी भाषा में लोकप्रिय करवाने का श्रेय भी इनको दिया जाता है।
ग़ालिब को भारत और पाकिस्तान में एक महत्वपूर्ण कवि के रूप में जाना जाता है।
उन्हे दबीर-उल-मुल्क और नज़्म-उद-दौला का खिताब मिला।

वो आए घर में हमारे, खुदा की क़ुदरत है,,,
कभी हम उमको, कभी अपने घर को देखते है।

‘ग़ालिब’ बुरा न मान जो वाइज बुरा कहे,,,
ऐसा भी कोई है कि सब अच्छा कहें जिसे।

‘Ghalib’ Bura Na Maan Jo Waej Bura Kahe,,,
Aisa Bhi Koi Hai Ki Sab Accha Kahe Jise…
 
हर एक बात पे कहते हो तुम कि तू क्या है,,,
तुम्हीं कहो कि ये अंदाज़-ए-गुफ़्तगू क्या है।

चाहें ख़ाक में मिला भी दे किसी याद सा भुला भी दे,,,
महकेंगे हसरतों के नक्श हो हो कर पाएमाल भी।

Chahe Khak Me Mila Bhi De Kisi Yaad Sa Bhula Bhi De,,,
Mahekenge Hasraton Ke Naksh Ho Ho Kar Paymaal Bhi…

हुई मुद्दत कि ‘ग़ालिब’ मर गया पर याद आता है,,,
वो हर इक बात पर कहना कि यूँ होता तो क्या होता।
 
फ़िक्र–ए–दुनिया में सर खपाता हूँ,,
मैं कहाँ और ये वबाल कहाँ।

Fikr-Ae-Duniya Me Sar Khapata Hun,,,,
Mai Kha Aur Ye Vbaal Kha…


जी ढूँडता है फिर वही फ़ुर्सत कि रात दिन,,,,
बैठे रहें तसव्वुर–ए–जानाँ किए हुए।

Jee Dhundta Hai Phir Vhi Fursat Ki Raat Din,,,,
Baithe Rhe Tasvur-Ae-Jaan Kiye Hue….

उस पे आती है मुहब्बत ऐसे,
झूठ पे जैसे यकीन आता है।

Us Pe Ati Hai Mohabaat Aise,,,
Jhuth Pe Jaise Yakeen Ata Hai…

Mirza Galib shayari

भीगी हुई सी रात में जब याद जल उठी,,,
बादल सा इक निचोड़ के सिरहाने रख लिया।

Bheege Hui Se Raat Me Jab Yaad Jal Uthi,,,
Badal Sa Ek Nichod Ke Sirhane Rakh Liya…
 
कुछ लम्हे हमने ख़र्च किए थे मिले नही,
सारा हिसाब जोड़ के सिरहाने रख लिया।

Kuch Lamhe Hamne Kharch Kiye The Mile Nhi,,,,
Sara Hisab Jod Ke Sirhane Rakh Liya…
 
वो रास्ते जिन पे कोई सिलवट ना पड़ सकी,,,
उन रास्तों को मोड़ के सिरहाने रख लिया।

Vo Raaste Jin Pe Koi Silvat Na Pad Saki,,,,
Un Rasto Ko Mod Ke Sirhane Rakh Liya…

रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं कायल,,,
जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है।

Hum Jo Sabka Dil Rakhte Hain Suno,,,
Hum Bhi Ek Dil Rakhte Hain…
 
इक शौक़ बड़ाई का अगर हद से गुज़र जाए
फिर ‘मैं’ के सिवा कुछ भी दिखाई नहीं देता।

Ek Shouk Badai Ka Agar Had Se Gujar Jaay,,,
Fir ‘Mai’ Ke Siva Kuch Bhi Dikhai Nhi Deta…
 
ज़िन्दग़ी में तो सभी प्यार किया करते हैं,,,
मैं तो मर कर भी मेरी जान तुझे चाहूँगा।

Zindagi Me To Sabhi Pyaar Kiya Karte Hai,,,,
Mai To Mar Kar Bhi Meri Jaan Tujhe Chaunga….
 
दिल–ए–नादाँ तुझे हुआ क्या है,,,
आख़िर इस दर्द की दवा क्या है।

Dil-Ae-Naad Tujhe Hua Kya Hai,,,
Akhir Is Dard Ki Dawa Kya Hai”
 
एक क़ुर्ब जो क़ुर्बत को रसाई नहीं देता,,
एक फासला अहसास–ए–जुदाई नहीं देता।

Ek Kurb Jo Kurbat Ko Rasoi Nhi Deta,,,
Ek Fasla Ahsaas-Ae-Judai Nhi Deta…
 
तू मिला है तो ये अहसास हुआ है मुझको,,,
ये मेरी उम्र मोहब्बत के लिए थोड़ी है ।

Tu Mila Hai To Ye Ahsas Hua Hai Mujhko,
Ye Meri Umar Mohabaat Ke Liye Thodi Hai…

Mirza galib shayari 


गुजर रहा हूँ यहाँ से भी गुजर जाउँगा,,,,
मैं वक़्त हूँ कहीं ठहरा तो मर जाउँगा।

Gujar Raha Hun Yha Se Bhi Gujar Jaunga,,,,
Mai Waqt Hun Kahi Thara To Mar Jaunga…

गुजरे हुए लम्हों को मैं एक बार तो जी लूँ,,,
कुछ ख्वाब तेरी याद दिलाने के लिए हैं।

Gujre Hue Lamho Ko Mai Ek Baar To Jee Lun,,,
Kuch Khwab Teri Yaad Dilane Ke LiYE Hai…

यही है आज़माना तो सताना किसको कहते हैं,,,
अदू के हो लिए जब तुम तो मेरा इम्तहां क्यों हो।

बिजली इक कौंध गयी आँखों के आगे तो क्या,,,
बात करते कि मैं लब तश्न-ए-तक़रीर भी था।

ता फिर न इंतिज़ार में नींद आए उम्र भर,,,
आने का अहद कर गए आए जो ख़्वाब में।

Ta Fir Na Intijaar Me Need Aay Umar Bhar,,,,
Ane Ka Ahad Kar Gy Aay Jo Khwab Me…

हमको मालूम है जन्नत की हकीकत लेकिन,,,
दिल के खुश रखने को ‘ग़ालिब’ ये ख़याल अच्छा है।
 
इश्क पर जोर नहीं है ये वो आतिश ‘ग़ालिब’,
कि लगाये न लगे और बुझाये न बुझे।

अर्ज़–ए–नियाज़–ए–इश्क़ के क़ाबिल नहीं रहा,,,
जिस दिल पे नाज़ था मुझे वो दिल नहीं रहा।

Arz-Ae-Niyaz-Ae-Ishq Ke Kabil Nhi Raha,,,
Jis Dil Pe Naaz Tha Mujhe Vo Dil Nhi Raha…

तुम न आए तो क्या सहर न हुई,,,
हाँ मगर चैन से बसर न हुई।
मेरा नाला सुना जमाने ने,,,
एक तुम हो जिसे खबर न हुई

Mirza Galib shayari

मुहब्बत में उनकी अना का पास रखते हैं,,,
हम जानकर अक्सर उन्हें नाराज़ रखते हैं।

Mohbaat Me Unki Ana Ka Pass Rakhte Hai,,,
Hum Jaankar Aksar Unhe Naraj Rakhte Hai….
 
कोई मेरे दिल से पूछे तिरे तीर–ए–नीम–कश को,,
ये खलिश कहाँ से होती जो जिगर के पार होता।

Koi Mere Dil Se Puche Tere-Ae-Neem-Kash Ko,,,
Ye Khalish Kha Se Hoti Jo Jigar Ke Paar Hota….
 
तुम अपने शिकवे की बातें,,,
न खोद खोद के पूछो।
हज़र करो मिरे दिल से,,,
कि उस में आग दबी है।।

Tum Apne Sikwe Ki Baatein,,,
Na Khod Khod Ke Poocho…
Hajar Karo Mere Dil Se,,,
Ki Us Me Aag Dabi Hai….
 
इस सादगी पे कौन न मर जाए ऐ ख़ुदा,,,
लड़ते हैं और हाथ में तलवार भी नहीं।

Is Sadgi Pe Kon Na Mar Jay Ae Khuda,,,
Ladte Hai Aur Hath Me Talwar Bhi Nhi…
 
न सुनो गर बुरा कहे कोई,
न कहो गर बुरा करे कोई।

Na Suno Gar Bura Kahe Koi,,,,
Na Kaho Gar Bura Kare Koi….

रोक लो गर ग़लत चले कोई,
बख़्श दो गर ख़ता करे कोई।

Rok Lo Gar Galat Chale Koi,,,,
Baksh Do Gar Kahta Kare Koi…
 
तेरे वादे पर जिये हम
तो यह जान,झूठ जाना
कि ख़ुशी से मर न जाते,,,
अगर एतबार होता।।

Tere Vade Par Jiye Ham,,,
To Yah Jaan,Jhuth Jana…
Ki Khusi Se Mar Na Jate,,,
Agar Aitbaar Hota…

हम जो सबका दिल रखते हैं,,,
सुनो, हम भी एक दिल रखते हैं।

रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं काइल,,,
जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है।

Rango Me Daudte Firne Ke Ham Nahi Kaiel,,,,
Jab Ankh Hi Se Na Tapka To Fir Lahu Kya Hai….

Here you find more stuff on this page which you love to Read

Something Wrong Please Contact to Davsy Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.