Krishna Birthday Beautiful Poetry Best 30+ Collection

Krishna birthday beautiful poetry

Krishna birthday  beautiful poetry

1- तुम पहनो यह नथुनी नुपुरवा ,
मैं वंशी अधर धराऊं ।
की कान्हा , तुम नाचो मैं गाऊं

तुम बन जाओ राधिका रानी ,
मैं कान्हा बन जाऊं ।
की कान्हा , तुम नाचो मैं गाऊं ।

2- तुम गीत हो , संगीत हो , प्रेम का अहसास हो राधे ,
तुम ही तुम प्रेम की प्यारी सी परिभाष हो राधे ,

3- माखन चोर नन्द किशोर, बांधी जिसने प्रीत की डोर,,
हरे कृष्ण हरे मुरारी, पूजती जिन्हें दुनिया सारी।
आओ उनके गुण गाएं सब मिल के जन्माष्टमी मनाये।।

4-हां माना मिलन मुमकिन नहीं, पर चलो,,
कभी ना टूटने वाला वादा बन जाओ।
में बनू कृष्ण तुम्हारा,,
तुम मेरी राधा बन जाओ।।

5- कृष्ण हैं मुक्ति दाता,,,
प्रेम करो कृष्ण से।
कृष्ण हैं सुख के प्रदाता।।

6-सांवले रंग बस यही कहानी है,,
कृष्णा तेरे हम ही नहीं
बल्कि ये पूरी दुनिया दीवानी है।

7-माखन चुराकर जिसने खाया,,
बंसी बजाकर जिसने नचाया।
खुशी मनाओ उनका जन्म दिवस,,
जिसने सबको प्रेम का रास्ता दिखाया।।

8-न सखा तुम सा न प्रियतम तुम सा न स्वामी तुम सा,,
हैं सुदामा, राधा, मीरा, रुक्मिणी प्रिये
तीनो लोको में कहाँ कोई मीत तुम सा।।

9- Krishna is beloved by everyone either it is human , animal , plant
even every part of the nature gives respect to him because he respects all.
so if we want respect and love from nature like him then first of all we have give this all to it now..

10-Some say,,,,he resides in our hearts,,
Some say, his hearts have been stolen by him.
Someone say, their hearts beat because of him,,
Some say, they have lost their hearts to him.
Someone say, he is their sweetheart He says nothing,,
His devotees dissolve in him..
Jai Shree Krishna

11- My Krishna knows…
every sitution of my life,,
and everything that in my heart .

Krishna birthday beautiful poetry

12-मनमोहन तु कन्हैयाँ ब्रीजवासी नंदकिशोर,,
सबका प्यारा और दुलारा।
मन का मित राधा का श्याम चितचोर,,
मनभावन तू यशोदा का लाडला।
मिरा के प्रभू हे गिरीधारी प्यार का सागर तू ,,
गोपीयों संग रास रचावे उनका चैन हर लेवे तेरी लीला।।

13-कोई जी कृष्ण ही तो फिर दे सुना गीता,,
जीवन ती घट रहा है हर एक पहर में।
कर्मों की साधना नहीं है मौत की सीढ़ी,,
मीरा को मिला जीवन जैसे ज़हर में।।
दे हरा हालात को जो अपने हुनर से,,
है नहीं सानी कोई उसका ही दहर में।।

14-प्यार के जज़्बात को वो क्या खूब समझता है,,
एक वो ही तो है जो मुझे अपना समझता है।
मेरी खुशी में ही वो अपनी खुशी है मानता,,
मेरे हँसते चेहरे को वो आईना समझता है।।
जब कभी की मैंने रूठ जाने की बात,,
इस बात को केवल सपना समझता है।
सारी चमक फीकी थी जिसके सामने,,
इश्क को वो मेरे चमकता नगीना समझता है।।
निरंतर बहती रहती है जिसका अंत नहीं,,
मुझे वो प्रेम की पवित्र गंगा समझता है।
सच्चे दिल से चाहा है मुझे उसने ऐसे,,
जैसे मुझ को राधा खुद को कन्हैया समझता है।।

15-मैं राधे राधे बोलूँ तुम मथुरा समझ लेना,,
मैं कहूँ दिवाना किसी का तुम कान्हा का समझ लेना।
कि कहूँ मैं कोई चोर दिल में रहता है,,
तुम नाराज ना होना कन्हैया की चोरी समझ लेना।।
मैं कहूँ सैर करें कहीं दूर जाकर,,
तुम ब्रजमंडल शहर समझ लेना।
मैं कहूँ मुझे रोज बुलाया करो,,
तुम राधे-श्याम का नाम समझ लेना।।
मैं कहूँ कोई धुन मेरे रोम – रोम में बसी है,,
तुम नटखट की मुरली की आवाज़ समझ लेना।।

16-सांवरे!!!
तेरा मेरा साथ हो , कुछ अनकही बात हो,,
उमड़ते जज़्बात और कीर्तन वाली रात हो।

17- कृतार्थ किया हमको, देकर गीता ज्ञान।
भूलेंगे कैसे भला, हम तुमको भगवान।

Krishna birthday beautiful poetry

18-इंतजार है आपके मानव अवतार का हे नारायण,,
ये दुनिया कृष्णा की लीलाओं से परे हो चुकी है।
फिर से मुरली बजाओ फिर से ग्वालों को खिलाओ,,
फिर से आके इस पापी युग का कोई महाभारत करवाओ।।
मिटा दो हस्ती इस क्रूर समाज की,,
अपने चमत्कार से फिर से एक नया संसार बनाओ ।।

19-कि गोपी भाजी भाजी आयी,,
जसुदा जायौ नन्द को ढोटा देवत सबन बधाई।
मंगल द्वार सजे घर घर पै,,
मधु मिसरी कौ भोग धरायी देवत सबन बधाई।।
ग्वाल बाल सब उचके जावें पवन सुगंधित पुर पुर छायी देवत सबन बधाई ।

20-कान्हा की आँखें देख सब भूल गया,,
माँगना था बहुत कुछ लेकिन सब भूल गया।
लाया था माखन का प्रसाद भोग लगाना भूल गया,,
सोचा था कहूंगा उनसे दिल की बात कहना भूल गया।।
अब तो रहा मुझे बस यही याद जब से,,
मिले नैना बिहारी जी से बाकी सब में भूल गया।

21-राम को चुनता तो मर्यादा पुरुषोत्तम होता,,
मैंने कृष्ण को चुना और प्रेम हो गया।

22-क्षुद्र हृदय की दुर्बलता, कायरता छोड़ो,,
निज कर्तव्य निभाओ मुझको मन से जोड़ो।
है अकीर्तिकर युद्ध पलायन, पार्थ विचारो,,
भय, संशय को छोड़ युद्ध के प्रति मन मोड़ो ।।

23-लाचार है हम सब फिर से,,
तुम्हारी बंसी की धुन सुनने को।
जल्दी आओ अब देर ना लगाओ,,
धरती को अत्याचार से बचाओ।।

24-चाहत है राधा की कृष्णा उसके दिल की विरासत है,,
चाहे कितना भी रास रचा लें कृष्णा।
लेकिन दुनियां तो फिर भी कहती है,,
राधे कृष्णा!!, राधे कृष्णा!!

25-ओ पालनहारे, निर्गुण और ज्यारे,,
ओ पालनहारे, निर्गुण और ज्यारे
तुमरे बिन हमरा कौनो नहीं।।

26-मेरी राधा तो वो ही है,,
अब तू ही उसे जा कर बता दे।
मेरी चाह मेरी आस भी वो है,,
अब तू ही उसे जा कर बता दे।।

Krishna birthday beautiful poetry

27-मोर पंख देख मुकुट पर कब मेरे नैन खो गए,,
बंसी की धुन सुन कर कब मेरा मन शांत हो गया।
कान्हा की मूर्त देख कर कब मैं कान्हा भक्त मीरा सा हो गया।।

28-इश्क भी तू मेरा प्यार भी तू,,
मेरी बात तो जात जज्बात भी तू।
परवाज़ भी तू रूह-ए-साज भी तू,,
मेरी सांस नब्ज और हयात भी तू।।
मेरा राज भी तु पुखराज भी तू,,
मेरे आस पास और लिवास भी तू।

29-Krishna stands for,,,,
Love, We all know his eternal love, respect for goddess Radha,,
How much one can love one another so that if one is in pain the other person feels it too ??
The example of his holy love is known to all of us …

30-A mind as pure as yours, Is the Lord’s divine gift.,
May you be showered With blessings and grac.
To transform lives Of everyone you meet…

31-There have been moments in life where I was nadir,,
where I was Sudama ( Weak and Helpless ) and you succored me in different forms.
I feel your presence always by my side,, There is nothing more than you..
there is nothing other than you !!!

Here you find more Quote stuff on this page Here you find more Quote stuff on this page which you love to Read you love to Read

Something Wrong Please Contact to Davsy Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.