डर क्या है? आओ जानें ( let’s make Friendship With Our Fear)

डर  या भय आखिर क्या है?
डर एक भावना है। भय संभावित खतरे के लिए एक आम प्रतिक्रिया के रूप में सभी जानवरों और लोगों में एक भावना है।
यह भावना हमेशा अनुकूलीत नहीं होती है।
लोग कहते हैं , भय एक अच्छी भावना नहीं है।
भय इंसान को कमजोर बनाता है, डरने वाले लोग अक्सर पीछे रह जाते हैं।
डर कई रूपों में प्रकट होता है।जैसे: राक्षस और भूत, बुरी शक्तियों का अस्तित्व,
तिलचट्टे, मकड़ियाँ, सांप, hight, पानी, सूई, सामाजिक अस्वीकृति, परीक्षा और सार्वजनिक बोल,
किसी बड़े व्यक्ति से कुछ कहने अथवा उसके समक्ष उपस्थित होने के संबंध में होने वाला संकोच आदि।

आपका जीवन डर से जीत के लिए एक संघर्ष है।लेकिन हम लोगों से जरा हट के सोच रखते हैं।
डर होना जरूरी है, क्योंकि हमारा डर हमें मजबूत होने का अवसर देता है।

जब तक किसी व्यक्ति में डर नही होगा तब तक उसके जीवन मे रोमांच नहीं होता ।

अपने डर से टकराने का आनंद ही कुछ अलग होता है। हम अपने डर से जितना दूर जाते हैं,
उतना हमारा डर हम पर हावी होने लगता है। अपने डर से दूर भागने से अच्छा है कि हम अपने डर से हाथ मिला लें।

क्योंकि हमारा डर हमें बहुत कुछ सिखा सकता है।
बस हमें अपने डर की तरफ हाथ बढाने की आवश्यकता है।

हमारा डर ही है जो हमें हमारे जीवन की असली जीत की तरफ लेकर जा सकता है।

डर क्या है? आओ जानें ( let's make Friendship With Our Fear)

Poetry डर क्या है?

Me:
डर रहा हूँ तेरा सामना करने से,,,
तू है क्या ये बता तो सही।
आखिर चाहता क्या है तू मुझसे,,,
एक बार तू बता तो सही।।

My Fear:
हूँ मै सच्चा साथी तेरा, तू एक बार करीब आ तो सही,,,,
बदल दूंगा तेरी सारी जिंदगी, तू एक बार नजर मिला तो सही।
मिल सकती है तुझे हर जीत तेरी,,,
तू एक बार अपने गले लगा तो सही।।

Here you find more stuff on this page which you love to Read

2 thoughts on “डर क्या है? आओ जानें ( let’s make Friendship With Our Fear)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.